Loading...

Friday, October 18, 2013

यह परजीवी जीवन कैसा



एक बड़े नीम के पेड़ पर उगे उस पीतल के पौधे को समर्पित है यह कविता जो बाद में उस सूखे नीम के पेड़ के तने को चीरता हुआ धरती को छूता है और कुछ ही वर्षों में उस स्थान पर नीम का वृक्ष नहीं रह जाता और उसके स्थान पर एक विशाल पीपल का वृक्ष शेष रह जाता है। 

यह परजीवी जीवन कैसा 

व्योम चूमते, सुगठित, सुन्दर और पल्लवित तन में 
जन्म तुम्हारा हुआ किन्तु न तो धरा में नहीं गगन में 
गर्भित तन की मृतक देह में, खिला खिला बचपन कैसा 
यह परजीवी जीवन कैसा 

भीषण वायु प्रकोप सहे, तव पत्र न टूटे, तुम्हे बचाया 
जिस सानिध्य में युवा हुए, उसी देह को तुमने भुलाया
नष्ट किया उस तन को तुमने, परपीड़क! यह यौवन कैसा 
यह परजीवी जीवन कैसा 

पैर तुम्हारे अवनि छू रहे, मृतक देह के अन्दर से ही 
प्रमुदित हो कर डोल रहे हो, वायु वेग के संग संग ही 
मर कर भी जो पर-जीवन दे, धन्य धन्य अपनापन कैसा 
यह परजीवी जीवन कैसा 

क्या ज्ञान दे रहा यह जानो, हे मूढमति! मेरा जीवन 
मैं प्रमुदित और पल्लवित हूँ, आधारहीन यद्यपि मेरा तन 
तुम भी सदा प्रसन्न रहो, 'जय' नाशवान जीवन ऐसा 
यह परजीवी जीवन कैसा