Loading...

Friday, October 25, 2013

प्रवृत्ति


टहनियों में हँस रही थीं कुछ हिना की पत्तियाँ,
किस ने पत्थर से इन्हें 'जय' पीस दिया है ।
वल्लाह ! पत्तियाँ  भी कितनी ज़िंदादिल रहीं,
पत्थर पकड़ने वाले को रंग नसीब किया है॥