Sunday, April 22, 2018

नियति

मैं पूर्णिमा का चन्द्र बन चमकता रहा रात्रि भर 

अमावस की रात 'जय' जुगनू भी न मिले मुझे