Tuesday, March 13, 2018

नज़र

'जय' अपने ग़म में खुश था पर,
किसी ने यूँ नज़र डाली

जली पत्तों से, कलियों से,
फूलों से सजी डाली ।।