Loading...

Monday, December 9, 2013

जय हो !


जय हो !

लूट लिया जनता का पैसा, कहते हो जय हो ! 
घोटालों की सजी दुकाने, कहते हो जय हो !!
नोटों पर है बिछा बिछौना, नींद नहीं फिर भी,
काला धन मुस्कुरा रहा है, कहते हो जय हो !!

व्यभिचारों का तना चँदोवा, कहते हो जय हो !
आँख का पानी बेंच रहे हो, कहते हो जय हो !! 
सरे-राह लुट रही आबरू, बेटी और बहनों की, 
भारत माँ को नोच रहे हो, कहते हो जय हो !!

जाति-पाँति में बाँट देश को, कहते हो जय हो !
मँहगाई में जीवन सस्ता, कहते हो जय हो !!
रोजगार के लिए भटकते रहते लाखों 'जय'
लैपटाप - टैबलेट बाँट कर, कहते हो जय हो !!